Skip navigation

स्वप्न संसार को छुने की इक्श्हाये लेकर राहो में बिखरता रहा में,
पंहुचा नही कही भी क्यूँ जबकि सारी उम्र चलता रहा मैं…
गर्म दोपहर, सर्द रातो में सोचता रहा, समझता रहा मैं,
पंहुचा नही कही भी क्यूँ जबकि सारी उम्र चलता रहा मै…

दूर और पास,
अहसास या बिना अहसास,
छोटा सा या बहुत खास ,
अन्धविश्वास या विश्वास,
हर सपने के लिए लड़ता रहा में,
कभी कभी संभल गया, कभी गिर गिर कर ही चलता रहा में..
पंहुचा नही कही भी क्यूँ जबकि सारी उम्र चलता रहा मै…

कभी पाई कुछ छोटी मंजिले,
कभी खो दिया एक पुरा जहाँ,
कभी बहुत दूर जाके वापिस लोटा,
कभी खोया यहाँ कभी खोया वहाँ..
हर छाँव के लिए कई कोस चलता रहा में,
कभी द्वेष, कभी विरह, कभी इर्ष्या अग्नि लेकर सदियों में भी जलता रहा में..
पंहुचा नही कही भी क्यूँ जबकि सारी उम्र चलता रहा मै…

मनीष चोपडा !!

Advertisements

11 Comments

  1. bhai sahab,

    aapki likhai ka to main kayal ho chuka hun
    bahut din bhi ho gaye aap se mile hue
    chalo hope to see u soon 🙂

  2. Thanks Dost, I am hoping same ek baar sab mil jaye to majaa aa jaye..

  3. mashallaah!! 🙂

  4. hummm… acchi hai sirji… lekin thodi saddish hai… 😦

  5. Haa sir poem to sad hi he…

  6. Dost … kya baat hai…
    bahut badhiya… one can instantly identify with the thoughts …
    Keep ’em coming.

  7. Thanks buddy

  8. nice one my frd:)
    but tu to itana happening person tha achanak se kya huaa!!!

  9. Are yaar javed akhtar ne Diwar likhi he to uska matlab he thodi naa he ki usake sath wo sab hua tha… 🙂

  10. chalte chalte manjil mil hi jayegi thakne par bhi nayi raahein khul jayegi.


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: