Skip navigation

Tag Archives: sad poem

शब्द ढूंढे, अर्थ ढूंढे, सब लगता हे व्यर्थ ढूंढे |
स्वार्थ और निस्वार्थ ढूंढे,सब लगता हे व्यर्थ ढूंढे |
ऊँचे शिखर और गर्त ढूंढे, सत्य ढूंढे , मिथ्य ढूंढे,
कुछ करूंन, कुछ कठोर, कुछ उन्मुक्त ढूंढे |

धुंडी जब भी रोशनी, काल कुरूप अँधेरे संग ढूंढे,
चला समीप जब इन्द्रधनुष के, उसके रंग भी बे-रंग ढूंढे |
जब भी ढूंडा पवितर्ता को, द्वेष, कलह और रक्त ढूंढे,
कुछ धर्म की शाखाओ में बंधे फिर अपने इश्वर असमर्थ ढूंढे ….

ढूंडा नेतृत्व कई बार, उनमे अपने सपने साथ ढूंढे,
जहा भी ढूंडा, कुछ स्वार्थ मानुस हर वक़्त ढूंढे |
जब भी ढूंढे जवाब , मेने फिर तर्क ढूंढे,
ऊँचा होने से पहले ही, मेने फिर कुछ फर्क ढूंढे |

शब्द ढूंढे, अर्थ ढूंढे, सब लगता हे व्यर्थ ढूंढे |

मनीष चोपडा_

Advertisements

स्वप्न संसार को छुने की इक्श्हाये लेकर राहो में बिखरता रहा में,
पंहुचा नही कही भी क्यूँ जबकि सारी उम्र चलता रहा मैं…
गर्म दोपहर, सर्द रातो में सोचता रहा, समझता रहा मैं,
पंहुचा नही कही भी क्यूँ जबकि सारी उम्र चलता रहा मै…

दूर और पास,
अहसास या बिना अहसास,
छोटा सा या बहुत खास ,
अन्धविश्वास या विश्वास,
हर सपने के लिए लड़ता रहा में,
कभी कभी संभल गया, कभी गिर गिर कर ही चलता रहा में..
पंहुचा नही कही भी क्यूँ जबकि सारी उम्र चलता रहा मै…

कभी पाई कुछ छोटी मंजिले,
कभी खो दिया एक पुरा जहाँ,
कभी बहुत दूर जाके वापिस लोटा,
कभी खोया यहाँ कभी खोया वहाँ..
हर छाँव के लिए कई कोस चलता रहा में,
कभी द्वेष, कभी विरह, कभी इर्ष्या अग्नि लेकर सदियों में भी जलता रहा में..
पंहुचा नही कही भी क्यूँ जबकि सारी उम्र चलता रहा मै…

मनीष चोपडा !!